हुंडई भारत के लिए विकसित कर रही है किफायती और छोटी इलेक्ट्रिक कार

hyundai venue electric suv rendering

हुंडई की आगामी कॉम्पैक्ट ईवी की किफायती कीमत होने की उम्मीद है और यह आने वाले वर्षों में लॉन्च होगी

हुंडई इंडिया आने वाले महीनों में कई नए उत्पादों को लॉन्च करने की तैयारी कर रही है, जबकि हाल ही में वेन्यू फेसलिफ्ट को लॉन्च किया गया है। अब यह दक्षिण कोरियाई ऑटो प्रमुख भारत में आने वाले महीनों में टक्सन के चौथे जेनरेशन को पेश करेगी, जबकि इस कैलेंडर वर्ष के अंत तक आयोनिक 5 इलेक्ट्रिक को भी पेश किया जाएगा। कंपनी की योजना में साल 2023 के शुरुआती हिस्सों में क्रेटा फेसलिफ्ट को भी लॉन्च करना है।

हाल ही में सामने आई एक रिपोर्ट की मानें तो हुंडई घरेलू बाजार के लिए एक छोटी इलेक्ट्रिक कार भी विकसित कर रही है और इसके साथ कंपनी अपने मौजूदा पोर्टफोलियो को मजबूत करेगी। कंपनी की योजना में प्रीमियम और किफायती दोनों वाहन शामिल हैं और इस तरह भविष्य में हुंडई के पोर्टफोलियो में डीजल पेट्रोल से चलने वाले वाहनों के साथ-साथ इलेक्ट्रिक वाहन भी शामिल होंगे।

दरअसल हाल ही में हुंडई मोटर इंडिया लिमिटेड के डाइरेक्टर (सेल्स, मार्केटिंग और सर्विस) तरुण गर्ग ने एक इंटरव्यू में कहा है कि इन वाहनों को यथासंभव स्थानीयकृत किया जाएगा, जो संभवतः इलेक्ट्रिक मॉडल को आक्रामक रूप से स्थिति में लाने में मदद करेगा। ऐसा इसलिए है, क्योंकि भारत में किसी कार का मूल्य निर्धारण उसकी सफलता का एक महत्वपूर्ण कारक है।

upcoming-Hyundai-electric-car-rendering (1)

हुंडई अलग-अलग पहलुओं पर काम कर रही है, जिसमें सेल्स नेटवर्क, चार्जिंग इकोसिस्टम, असेंबली प्रोसेस और आगामी ईवी का उत्पादन आदि शामिल है। हालांकि कंपनी ने इस किफायती इलेक्ट्रिक कार के लॉन्च की समयसीमा की जानकारी नहीं दी है, लेकिन गर्ग का कहना है कि इसे “सही कीमत पर” पूरी तरह से संरेखित करना होगा। दरअसल हुंडई 2028 तक भारत में छह नए इलेक्ट्रिक वाहनों को लॉन्च करने की योजना बना रही है, जिसके लिए कंपनी 4,000 करोड़ रूपए का निवेश करेगी।

वर्तमान में भारत में इलेक्ट्रिक कारों की बिक्री कुल कारों की बिक्री के मुकाबले 1 प्रतिशत से भी कम है, लेकिन केंद्र सरकार इस दशक के अंत तक अपनी हिस्सेदारी को 30 प्रतिशत तक बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। गर्ग ने आगे कहा कि जब यह आंतरिक दहन इंजन वाली कारों के बारे में था, तो हमारे पास यह बॉटम-अप दृष्टिकोण था। इलेक्ट्रिक में हम टॉप-डाउन दृष्टिकोण की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि वॉल्यूम-आधारित ईवी के सफल होने के लिए पर्याप्त चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर और बैटरी की कम कीमतें बहुत आवश्यक हैं।

बता दें कि हुंडई ने साल 2019 में कोना ईवी को भारत में अपनी पहली इलेक्ट्रिक कार के रूप में लॉन्च किया था और उम्मीद है कि निकट भविष्य में भी इसके फेसलिफ्ट वर्जन को भी पेश किया जाएगा। इसके साथ ही कंपनी जल्द ही आयोनिक 5 को भी पेश करेगी और इस इलेक्ट्रिक क्रॉसओवर को स्थानीय रूप से असेंबल किया जाएगा। इस तरह इसकी कीमत हाल ही में लॉन्च की गई किआ ईवी6 से कम होगी।

SOURCESource